Monthly Archives: February 2016

व्यक्ति का ‘राष्ट्रद्रोह’ बनाम राष्ट्र का ‘देशद्रोह’

अंग्रेजों के समय में जब ‘तिलक’ को राष्ट्रद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किया गया तो उन्होने कोर्ट में बयान देते हुए यह सवाल उठाया कि यदि व्यक्ति राष्ट्रद्रोह करे तो उसके लिए कानून (124 ए) है और सजा का प्रावधान … Continue reading

Posted in General | Leave a comment

‘रोहित वेमुला’ के मायने……..

आज से ठीक 80 साल पहले जयपुर के निकट चकवाड़ा नामक गांव में एक दलित परिवार ने अपने खाने में देशी घी का इस्तेमाल किया और भोजन करने के दौरान ही उसी गांव के सवर्णो ने उस दलित परिवार पर … Continue reading

Posted in General | Leave a comment