Author Archives: kriti shree

अब्बू की नज़र में जेल- 6 और 7

अब्बू की नज़र में जेल-6 एक दिन खुली गिनती के समय अब्बू ने मुझसे अचानक पूछा- मौसा जब जेलर अन्दर आता है तो बड़ा वाला गेट (करीब 18-20 फुट ऊंचा) खुलता है, और जब हम लोग अन्दर आते हैं या … Continue reading

Posted in General | Leave a comment

अब्बू की नज़र में जेल-5

जेल में शनिवार का दिन हमारे लिए बहुत खास होता है। इस दिन अब्बू की मुलाकात अपनी मौसी से और मेरी मुलाकात अपनी पत्नी/प्रेमिका/फाइली [co-accused] अमिता से होती है। हालांकि यह मुलाकात महज आधे घण्ठे की होती है मगर फिर … Continue reading

Posted in General | Leave a comment

अब्बू की नज़र में जेल- 4

ट्रांजिट रिमान्ड के बाद एटीएस कार्यालय में रिमांड का पहला दिन। कमरे में दाखिल होते ही मुझे आदेश मिला कि मैं कमरे के एक कोने में बिछे मोटे गद्दे पर बैठ जाउं। इस गद्दे के अलावा कमरे में महज कुछ … Continue reading

Posted in General | Leave a comment

अब्बू की नज़र में जेल-3

पहला भाग गिरफ्तारी के 3 माह आज पहली बार अदालत जाने का दिन है। चन्द पैसे वालों के लिए यह दिन खास होता है। इस दिन वे पैसे के बल पर अदालत परिसर में दिन भर अपने परिवार मित्रों के … Continue reading

Posted in General | Leave a comment

अब्बू की नज़र में जेल

जेल में हर किसी को जिस एक चीज का बेसब्री से इन्तजार होता है वह है- ‘मुलाकात’। जेल की उमस भरी जिन्दगी में ‘मुलाकात’ ठण्डी बयार की तरह होती है। जिसके कारण कुछ समय तक बन्दियों को जैसे आक्सीजन मिल … Continue reading

Posted in General | Leave a comment

S.D. : Saroj Dutta and His Times

सत्ता के खिलाफ मनुष्य का संघर्ष भूल जाने के खिलाफ याद करने का संघर्ष है। मिलान कुन्देरा ‘कस्तूरी बसु’ और ‘मिताली विस्वास’ द्वारा निर्देशित डाकूमेन्टरी फिल्म ‘एस डी ः सरोज दत्त एण्ड हिज टाइम्स’ वास्तव में भूलने के खिलाफ याद … Continue reading

Posted in General | Leave a comment

How Narendra Modi Seduced India With Envy and Hate By Pankaj Mishra

The prime minister has won re-election on a tide of violence, fake news and resentment. Before dawn on Feb. 26, Narendra Modi, the Hindu nationalist prime minister of India, ordered an aerial attack on the country’s nuclear-armed neighbor, Pakistan. There … Continue reading

Posted in General | Leave a comment

The People Vs Tech: How the Internet is Killing Democracy (and how We Save It) by Jamie Bartlett

‘फ्रांसिस फुकोयामा’ के इतिहास के अन्त की घोषणा के ठीक 16 साल बाद ‘क्रिस एण्डरसन’ ने 2008 में अपने एक लेख में थ्योरी के अन्त (The End of Theory: The Data Deluge Makes the Scientific Method Obsolete) की भी घोषणा … Continue reading

Posted in General | Leave a comment

Kameradschaft [Comradeship]

मेघालय के पूर्वी जैनतिया पहाड़ी पर एक गैर कानूनी कोयला खदान में फंसे 15 खनिकों को आज 26 दिन बाद भी बचाया नहीं जा सका और अभी अभी खबर आ रही है कि वहीं पर पास की एक दूसरी गैरकानूनी … Continue reading

Posted in General | Leave a comment

Look Who’s Back : हिटलर ज़‍िन्‍दा है

हिटलर ज़‍िन्‍दा है, कभी वह अख़लाक के फ्रीज़र के गोश्‍त में घुस जाता है, कभी वह जुनैद की टोपी के धागों में उलझ जाता है, कभ्‍ाी वह पहलू ख़ान और रकबर ख़ान के मवेशियों के झुण्‍ड में घुस जाता है, … Continue reading

Posted in General | Leave a comment