‘Carla’s Song’ – a must watch film


carla’s song फिल्म निकारागुआ से भागी एक ऐसी लड़की की कहानी है जो स्काटलैण्ड की एक झुग्गी बस्ती में रहती है। और सड़को पर गाना गाकर अपना गुजर बसर करती है। एक दिन पब्लिक बस में वह बिना टिकट पकड़ी जाती है। तब उस बस का मस्तमौला ड्राइवर जार्ज रिस्क लेकर भी उसकी मदद करता है। इसी कारण उसे सात दिनों के लिए नौकरी से निलंबित कर दिया जाता है। इसी निलंबन के दौरान उसकी मुलाकात एक बार फिर कार्ला से हो जाती है। दरअसल कार्ला उसके बस से उसका पता लेकर खुद ही उससे मिलने आ गयी थी। कार्ला के शब्दों में कहे तो वह उसे उस दिन के लिए धन्यवाद कहने आयी थी।
जार्ज उससे स्वाभाविक रुप से उसके बारे में पूछताछ करता है, लेकिन कार्ला उसे कुछ नही बताती बल्कि उल्टे उसी से यह आश्वासन ले लेती है कि वह आइन्दा उससे कुछ नही पूछेगा।
अगली बार जार्ज उसे सड़क पर गाते व नृत्य करते और पैसा इकट्ठा करते देख लेता है। इसके बाद वह कार्ला के प्रतिरोध के बावजूद उसका पीछा करता है और उस जगह को देख लेता है जहां वह रहती है। जार्ज को आश्चर्य होता है कि वह इतनी भयानक और संकरी जगह कैसी रहती है। जार्ज उसे जबर्दस्ती अपने घर लाता है। और जाहिर है कि दोनों में दोस्ती विकसित होने लगती है। जार्ज उसे खूबसूरत जगहो पर घुमाने ले जाता है और इस दौरान दोनो में नजदीकी बढ़ने लगती है। तब वह उसे बताती है कि वह निकरागुआ से है और एक म्युजिक बैंड का हिस्सा है, जिसका काम था युरोपीय देशों में घूम-घूम कर अपने म्युजिक बैंड के माध्यम से निकरागुआ के क्रान्तिकारी आन्दोलन के लिए समर्थन जुटाना। लेकिन किन्ही कारणों से उनका बैंड बिखर गया और वह अकेली छूट गयी। निकरागुआ में उसका परिवार कहां है, उसे इसके बारे में भी कुछ नही पता था। वह अपने दोस्तों के बारे में बताते हुए अन्तोनियो का खास रुप से जिक्र करती है। और उसे अपना सबसे अच्छा दोस्त बताती है। जब जार्ज अन्तोनियों के बारे में और पूछताछ करता है तो वह फिर उससे वादा लेती है कि वह आइन्दा अन्तोनियो के बारे में कुछ नहीं पूछेगा। हालांकि वह यह भी कहती है कि अन्तोनियो कहां है उसे कुछ नही मालुम।
इसी बीच एक अन्तरंग क्षण में जार्ज कार्ला की पीठ पर गहरे चोट के निशान भी देख लेता है और जार्ज के साथ-साथ दर्शक भी समझ जाते हैं कि कार्ला निकरागुआ में सैन्डिनोज के नेतृत्व में चले संघर्ष में शामिल रही है।
इसी बीच एक बार जार्ज की अनुपस्थिति में कार्ला आत्महत्या करने का भी प्रयास करती है। लेकिन समय पर जार्ज पहुंच जाता है और कार्ला की जान बच जाती है। लेकिन इलाज के दौरान ही जार्ज को यह जानकारी होती है कि कार्ला ने पिछले 6 सप्ताह में दूसरी बार आत्महत्या का प्रयास किया है। इससे जार्ज बुरी तरह हिल जाता है।
जार्ज, कार्ला को वापस उसकी दुनिया यानी निकरागुआ में उसके अपनों के पास ले जाने का और खासतौर पर अन्तोनियो को खोजने का निर्णय करता है ताकि वह अपना स्वाभाविक जीवन जी सके।
कार्ला वापस जाने को तैयार हो जाती है।
और अगले दृश्य में दोनों निकरागुआ में नज़र आते है। यहां से एक तरह से फिल्म का दूसरा भाग शुरु होता है। शुरु के कुछ दृश्य केन लोच ने यह दिखाने के लिए डाले है कि तथाकथित पहली दुनिया और तीसरी दुनिया के जीवन स्तर मे कितना फर्क है।
यहां आकर पता चलता है कि सैन्डिनिस्टा ने सत्ता पर तो कब्जा कर लिया है लेकिन लड़ाई अभी बन्द नही हुई है। अमेरिका ने अपनी आदत के अनुसार सैन्डिनिस्टा के खिलाफ हस्तक्षेप शुरु कर दिया है। वह कोन्ट्रा प्रतिक्रियावादियों के माध्यम से निकरागुआ में गृहयुद्ध की शुरुआत कर देता है। इससे अभी भी वहां की जनता को काफी परेशानियां झेलनी पड़ती हैं। लेकिन जनता अपने रिवोल्यूशन को बचाने के लिए मजबूती से सैन्डिनिस्टा के साथ खड़ी है। इस परिस्थिति का जार्ज पर बहुत सकारात्मक असर पड़ता है। और मस्तमौला जार्ज अब काफी गम्भीर होने लगता है। इसी पृष्ठभूमि में कार्ला और जार्ज अपने सगे सम्बन्धियांें को ढूंढने निकल पड़ते हैं। एक-एक करके कार्ला की अपने दोस्तों से मुलाकात होने लगती है। सभी दोस्त अभी भी समाज निर्माण के काम में किसी न किसी रूप मंे लगे हुए हैं। लेकिन अजीब बात यह है कि इनमें से कोई भी उसे अन्तोनियो के बारे में नहीं बताता। उसके बारे में पूछने पर सबके चेहरे पर एक रहस्यमयी चुप्पी छा जाती है। इसी दौरान कार्ला की मुलाकात अपने परिवार से होती है। और परिवार में एक छोटे बच्चे से जार्ज के सामने यह रहस्य खुलता है कि यह बच्चा कार्ला और अन्तोनियो का है। कार्ला और जार्ज जब परिवार के साथ थे तो उसी रात कोन्ट्रा प्रतिक्रियावादियों का हमला होता है और बड़ी मुश्किल से जार्ज और कार्ला बच पाते हैं। इस हमले के बाद ही जार्ज के सामने यह स्पष्ट होता है कि कैसे अमेरिका कोन्ट्रा प्रतिक्रियावादियों की मदद कर रहा है। मारे गए कोन्ट्रा प्रतिक्रियावादियों की जेब से मिले सैटेलाइट के चित्र, जिसमें नागरिक बस्तियों और स्कूलों को अलग से चिन्हित किया गया था, अपनी कहानी खुद कहते हैं। इसी बीच कार्ला को एक स्वप्न आता है और दर्शकों को अन्तोनियो की कहानी कुछ हद तक स्पष्ट होती है। कार्ला और अन्तोनियो अपने ग्रुप के साथ जब अपने आधारक्षेत्र में प्रवेश कर रहे थे तभी, दुश्मन की ताकतों का हमला होता है। कार्ला बहुत मुश्किल से बच पाती है। लेकिन उसकी आंखों के सामने ही अन्तोनियो को बुरी तरह पीटा जाता है और पकड़ लिया जाता है। स्वप्न में ही वह अन्तोनियो अन्तोनियो चिल्लाती है और उसकी नींद उचट जाती है। इसी बीच कई नाटकीय घटनाओं से गुजरते हुए कार्ला को अन्ततः पता चलता है अन्तोनियो को पकड़ने के बाद टार्चर चैम्बर ले जाया गया था। वहां जब वे अन्तोनियो से कुछ उगलवा नहीं सके तो खीझ मंे उन्होंने अन्तोनियो की जीभ काट ली और उसके चेहरे पर तेजाब फेंक दिया। सैन्डिनो के सत्ता पर कब्जा करने के बाद जबसे अन्तोनियो आज़ाद हुआ, तब से वह गुप्त रूप से कार्ला और अन्तोनियो के एक अजीज दोस्त बै्रडले के साथ रह रहा था। उसका सार्वजनिक जीवन खत्म हो चुका था। यह सब जानने के बाद कार्ला अन्तोनियो से मिलने उस जगह भागती है। पीछे-पीछे जार्ज भी भागता है। फिल्म के अगले दृश्य में केन लोच ने बड़ी खूबसूरती से साइड एंगिल से अन्तोनियो का दिखाया है, जो कार्ला के साथ गिटार बजाते हुए बैठा है और कार्ला अन्तोनियो का ही लिखा एक गीत गा रही है। बाहर जार्ज और कार्ला का दोस्त ब्रैडले गीत सुन कर लगातार रोए जा रहे हंै।
अगले दृश्य में जार्ज अपने देश स्काॅटलैण्ड जाने के लिए निकलता है। तभी पीछे से कार्ला का दोस्त ब्रैडले उसे कार्ला का एक संदेश देता है। जार्ज संदेश देखता है। यह अन्तोनियो का लिखा एक गीत होता है- मुक्ति गीत………………………….।
अब कुछ बातें फिल्म के डायरेक्टर ‘केन लोच’ के बारे में। शायद आपको याद हो, पिछले दिनों जब जूलियन असांज की जमानत लेने वाला कोई सामने नहीं आ रहा था तो केन लोच ने आगे बढ़कर उनकी जमानत लेने का प्रस्ताव रखा था। ‘केन लोच’ सामाजिक मुद्दों पर फिल्में बनाने के लिए जाने जाते हैं। यहां तक कि उनकी एक फिल्म को तो ब्रिटिश सरकार ने प्रतिबन्धित भी कर दिया था। इस फिल्म का नाम भी बहुत सार्थक है। ब्रिटेन के खनिकों की हड़ताल पर बनी इस फिल्म का नाम है-आप किस तरफ हैं [Which Side Are You On?] इसी तरह आयरिश रिवोल्यूशन पर उनकी एक बेहतरीन फिल्म है –The Wind That Shakes the Barley. मजदूर अधिकार पर उन्होंने एक बेहतरीन फिल्म Riff-Raff बनायी है।
स्पेनिश गृहयुद्ध पर बनी land and freedom फिल्म तो क्लासिक का दर्जा पा चुकी है। पर मेरे हिसाब से केन लोच की यह सबसे कमजोर फिल्म है। इस फिल्म में केन लोच ने अपनी विचारधारा को ऐतिहासिक तथ्यों से ज्यादा अहमियत दी है। फलतः एतिहासिक विषय पर बनी यह फिल्म इतिहास का विद्रूपीकरण कर देती है। खैर इस पर फिर कभी।
यदि सादृश्य देने की मजबूरी हो तो आप कह सकते हैं कि केन लोच ब्रिटेन के श्याम बेनेगल हैं।

This entry was posted in General. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *