ईश्वर की अवधारणा के खिलाफ एक नया वैज्ञानिक तर्क…………….

vlcsnap-2013-02-07-13h56m54s22
ईश्वर की अवधारणा पर बहस बहुत पुरानी है। मध्यकाल तक, जब तक विज्ञान पूरी तरह धर्म के चंगुल में था, ईश्वर हर जगह था – यानी कण कण में। आधुनिक काल में जब विज्ञान धर्म के चंगुल से थोड़ा आजाद हुआ तो ईश्वर की अवधारणा पर तार्किक प्रश्न उठने लगे। विज्ञान का प्रभाव जैसे जैसे बढ़ने लगा, कण कण में व्याप्त ईश्वर विज्ञान से दूर भागने लगा। विज्ञान उसका पीछा करने लगा। चांद से मंगल, मंगल से बृहस्पति, बृहस्पति से सुदूर आकाशगंगा…………………..। लेकिन विज्ञान ने उसका पीछा नही छोड़ा। अंततः उसे ‘बिग बैंग’ के उस पार जाकर शरण लेनी पड़ी। ईश्वर के समर्थक कहने लगे कि ‘बिग बैंग’ का ‘बटन’ उसी ने दबाया है।
लेकिन स्टीफन हाकिंस ने ईश्वर को यहा से भी धकिया दिया। उन्होने प्रस्थापना दी कि ‘बिग बैंग’ से पहले ‘समय’ का अस्तित्व ही नही था। मतलब ईश्वर के पास वह समय ही नही था कि वह ‘बिग बैंग’ के लिए बटन दबाता।
vlcsnap-2013-02-07-14h03m52s105
हाकिंस ने यह स्टेटमेन्ट पिछले साल डिस्कवरी चैनल के लिए बनाये गये एक डाक्यूमेन्टरी ‘Did god create the universe’ में दिया। इससे पहले हाकिंस भी ईश्वर के सवाल पर डिप्लोमेटिक बयान देते रहे है। इससे पहले ईश्वर के सवाल पर उनका यही कहना होता था कि ईश्वर का ब्रहमांड के नियमों में कोई हस्तक्षेप नही है। पिछले साल पहली बार उन्होंने उपरोक्त प्रोग्राम में साफ साफ कहा कि ईश्वर का कोई अस्तित्व नही है। उन्होने इस बात के लिए आत्मालोचना भी की कि 1984 में रोम में हुए वैज्ञानिकों के एक सम्मेलन में जब आमन्त्रित्र पोप ने वैज्ञानिकों से यह कहा कि वे ब्रहंमान्ड से सम्बन्धित अपनी खोजो में ईश्वर पर सवाल ना उठाये तो हाकिन्स ने इस अवैज्ञानिक सुझाव पर कोई आपत्ति नही दर्ज की। उन्हे इस बात का आज भी मलाल है। हाकिन्स जैसा व्यक्ति जब धर्म से इतना भय खाता है तो आम लोगो की हालत क्या होगी, इसका अन्दाजा लगाया जा सकता है। खैर यह सामाजिक विज्ञान का प्रश्न है।
चलिए, देर आये दुरुस्त आये। हाकिन्स के इस बयान के बाद पोप को हाकिन्स की निन्दा करनी ही थी और उन्होने की।
डिस्कवरी चैनल द्वारा बनायी गयी उपरोक्त डाक्यूमेन्टरी में हाकिन्स का मुख्य तर्क यह है-‘‘ क्या बिग बैंग के लिए ईश्वर जिम्मेदार है? रोजमर्रा के जीवन में हम देखते है कि किसी भी घटना का कोई कारण होता है जो कुछ समय पहले घटित हुआ होता है। इसलिए हमारे लिए यह सोचना स्वाभाविक है कि इस ब्रहमान्ड का भी कोई कारण होगा और यह कारण ईश्वर हो सकता है। लेकिन ब्रहमान्ड की शुरुआत में समय की जो भूमिका थी वह ईश्वर के अस्तित्व को नकार देती है और यह स्थापित करती है कि ब्रहमान्ड अपने आप पैदा हुआ है। मूल बात यह है कि बिग बैंग के पहले समय का कोई अस्तित्व नही था। इसलिए बिग बैंग एकमात्र ऐसी परिघटना है जिसका कोई कारण नही है क्योकि ‘कारण’ के अस्तित्व के लिए समय का होना जरुरी है। मेरे लिए इसका मतलब यह हुआ कि उस समय किसी रचयिता का कोई अस्तित्व नही हो सकता क्योकि वहा समय का कोई अस्तित्व नही है। चुंकि समय भी बिग बैंग के साथ ही शुरु हुआ, इसलिए बिग बैंग का ना ही कोई कारण हो सकता है और ना ही इसके लिए कोई रचयिता जिम्मेदार है…………………इसलिए जब लोग मुझसे पूछते है कि क्या ईश्वर ने यह ब्रहमान्ड बनाया है तो मै उनसे कहता हूं कि इस सवाल का कोई सेन्स नही है। बिग बैंग के पहले समय का कोई अस्तित्व नही था, इसलिए ईश्वर के पास वह समय ही नही था कि वह ब्रहमान्ड की रचना करे। यह वैसे ही है जैसे यह पूछना कि पृथ्वी का किनारा किधर है। पृथ्वी गोल है। इसका कोई किनारा नही है। इसलिए इसकी खोज करना एक निरर्थक प्रयास है।’’
आसानी के लिए हम हाकिन्स के मुख्य तर्को को चार बिन्दुओं में समेट सकते है।
1. हर प्रभाव का एक कारण होता है जो समय में होता है।
2. समय की शुरुआत [ब्रहमान्ड की उत्पत्ती] से पहले कोई समय नही था।
3. इसलिए ब्रहमान्ड की उत्पत्ती का कोई कारण नही है।
4. इसलिए ईश्वर के होने का कोई सवाल ही नही पैदा होता।
तो आइये देखते है यह दिलचस्प विडियो। इसे आप यहां से डाउनलोड कर सकते है। अच्छी बात यह है कि यह विडियो हिन्दी में भी आ गया है।

This entry was posted in General. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *