Daily Archives: 2013/02/15

एक पाठक — मक्सिम गोर्की

आज से करीब 20 साल पहले एक कहानी पढ़ी थी- मैक्सिम गोर्की की ‘एक पाठक’। कहानी जैसे दिमाग में धंस गयी। उसके बाद जब भी साहित्य के उद्देश्य पर कोई चर्चा होती तो यह कहानी जरुर याद आती। लेकिन उसके … Continue reading

Posted in General | Leave a comment