सिर्फ दिल्ली ही महत्वपूर्ण क्यों है ?

rapenew295x200_10

प्रिय दोस्तो
दिल्ली में हुई छोटी बच्ची के साथ बलात्कार की घटना की हम घोर निन्दा करते है। और एक उच्च स्तरीय कमेटी का गठन करने की मांग करते है जो छोटी बच्चियों विशेषकर वंचित तबको और बड़े शहरों में झुग्गियों में रहने वाली बच्चियो की सुरक्षा की स्थिति की जांच करे। संवेदनशीलता बढ़ाने के लिए विशेष प्रशिक्षण दिये जाने की भी हम मांग करते है।
दिल्ली की उस बलात्कार पीडि़त बच्ची के साथ अपनी पूरी एकजुटता,प्यार,दुःख और सहानुभूति व्यक्त करते हुए हम सिविल सोसाइटी से एक सीधा सवाल पूछना चाहते है-आपके लिए सिर्फ दिल्ली ही महत्वपूर्ण क्यो है? क्या ये बच्चियां देश समाज और मानवता से वास्ता नही रखती?
न्याय के लिए मजबूत कानून की भूमिका वास्तव में काफी छोटी होती है। समाज में किसी भी तरह के अन्याय के लिए लोगो को ही उठ खड़ा होना होता है।
हमारी बच्चियां उस समाज में ही सुरक्षित रह सकती है, जो संवेदनशील जिम्मेदार और बराबरी पर आधारित हो।
देश में इसी अप्रैल महीने में दलित बच्चियों के साथ हुई बलात्कार की कुछ घटनाएं इस प्रकार है-
1 भिवानी में दलित बच्ची के साथ बलात्कार- दी ट्रीब्यून
2 फर्जी पुलिस की शक्ल में चार लोगो ने दलित बच्ची के साथ बलात्कार किया- दी हिन्दू
3 छोटी दलित बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार- दी हिन्दू
4 यूपी पुलिस ने 10 साल की बलात्कार पीडि़त बच्ची को ही हिरासत में डाला- जी न्यूज
5 दलित बच्ची के साथ उड़ीसा में बलात्कार चार हिरासत में- टाइम्स आफ इण्डिया
6 बिहार में फारेस्ट गार्ड ने दलित बच्ची के साथ बलात्कार किया- दि हिन्दू
7 बलात्कार पीडि़ता पर हमले की छानबीन शुरु- दि टाइम्स आफ इण्डिया
8 हाई स्कूल की दलित छात्रा को अगवा कर उसके साथ बलात्कार- दि ट्रीब्यून

ARUN KHOTE
PMARC

[Peoples Media Advocacy & Resource Centre- PMARC has been initiated with the support from group of senior journalists, social activists, academics and intellectuals from Dalit and civil society to advocate and facilitate Dalits issues in the mainstream media. To create proper & adequate space with the Dalit perspective in the mainstream media national/ International on Dalit issues is primary objective of the PMARC.]
http://www.indiaresists.com/ से साभार

This entry was posted in General. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *