Daily Archives: 2013/09/01

अब क़लम से इज़ारबंद ही डाल – हबीब जालिब

क़ौम की बेहतरी का छोड़ ख़याल, फिक्र-ए-तामीर-ए-मुल्क दिल से निकाल, तेरा परचम है तेरा दस्त-ए-सवाल, बेज़मीरी का और क्या हो मआल अब क़लम से इज़ारबंद ही डाल तंग कर दे ग़रीब पे ये ज़मीन, ख़म ही रख आस्तान-ए-ज़र पे जबीं, … Continue reading

Posted in General | Leave a comment